BAN v IND, देखें: जयदेव उनादकट ने एक शानदार बाउंसर पर लिया टेस्ट करियर का पहला विकेट

/
Advertisement
  • जयदेव उनादकट ने 12 साल के इंतजार के बाद अपना पहला टेस्ट विकेट लिया।

  • उनादकट ने बांग्लादेश के सलामी बल्लेबाज जाकिर हसन को आउट करने के लिए घातक बाउंसर फेंकी।

BAN v IND, देखें: जयदेव उनादकट ने एक शानदार बाउंसर पर लिया टेस्ट करियर का पहला विकेट
जयदेव उनादकट (फोटो: ट्विटर)
Advertisement

भारत और बांग्लादेश के बीच टेस्ट सीरीज के दूसरे मैच में जयदेव उनादकट को भारतीय टीम में शामिल किया गया है। उनादकट ने 12 साल बाद भारत की टेस्ट टीम में वापसी की है। उनादकट को कुलदीप यादव की जगह टीम में मौका दिया गया। इसके साथ ही बाएं हाथ के इस गेंदबाज ने आखिरकार टेस्ट क्रिकेट में पहला विकेट भी हासिल किया। उनादकट को दिसंबर 2010 में सेंचुरियन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपने पहले टेस्ट मैच में कोई विकेट नहीं मिला था। इसके बाद उनादकट अपना दूसरा टेस्ट बांग्लादेश के खिलाफ मीरपुर में खेल रहे हैं।

12 साल बाद अपने करियर का दूसरा मैच खेल रहे उनादकट ने बांग्लादेश की पारी के 15वें ओवर की पांचवीं गेंद शॉर्ट ऑफ लेंथ फेंकी जिसमें कुछ अतिरिक्त उछाल था। इस गेंद पर बांग्लादेशी बल्लेबाज ज़ाकिर हुसैन चौथी स्लिप में खड़े भारतीय कप्तान केएल राहुल को आसान कैच थमा बैठे। इसके साथ ही 31 वर्षीय उनादकट ने अपने टेस्ट करियर का पहला विकेट पूरा किया।

वीडियो यहाँ देखें:

बता दें, उनादकट का दूसरा टेस्ट में खेलने के लिए इंतजार करना, अब तक के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में किसी प्लेयर द्वारा इंतजार का दूसरा सबसे लम्बा अंतराल था। वहीं इंग्लैंड के गैरेथ बैटी ने अपना दूसरा मैच खेलने के लिए सबसे लम्बा इंतज़ार किया है।

दो मैचों के बीच की अंतराल:

  • 142 – गैरेथ बैटी (2005-16)
  • 118 – जयदेव उनादकट (2010-22)*
  • 114 – मार्टिन बिकनेल (1993-03)
  • 109 – फ़्लॉइड रीफ़र (1999-09)
  • 104 – यूनुस अहमद (1969-87)
  • 103 – डेरेक शेकलटन (1951-63)

इससे पहले, बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। जबकि बांग्लादेश के कप्तान परिस्थितियों के बारे में निश्चित थे, भारतीय कप्तान राहुल ने कहा कि वह इस बारे में निश्चित नहीं थे कि सतह कैसा प्रदर्शन करेगी।

“हमने भी ऐसा ही किया होता। ईमानदारी से कहूं तो सतह को देखकर समझ नहीं आ रहा है कि इसे क्या बनाया जाए। कुछ घास है जो आप देख सकते हैं, लेकिन आमतौर पर यहां बल्लेबाजी करना अच्छा होता है। यहां आम तौर पर कुछ उछाल होता है और तेज गेंदबाजों और स्पिनरों दोनों को कुछ मदद मिलती है। हम पहले बल्लेबाजी करना चाहते थे, लेकिन हमें यकीन नहीं है कि क्या उम्मीद की जाए,” राहुल ने कहा।

टैग: , ,

श्रेणी: जयदेव उनादकट

लेखक के बारे में:
टी-20 के दौर में टेस्ट के दीवाने.. विराट कोहली के बड़े प्रशंसक...बाकी स्पोर्ट्स जर्नलिज्म के बारीकियों को समझने समझाने में व्यस्त।अभिनय से संपर्क करने के लिए abhinay.pratap@crickettimes.com पर ईमेल करें।
Advertisement