ऋषभ पंत को बचाने वाले बस ड्राइवर ने बताई हादसे की दर्दनाक कहानी, हुए सम्मानित

/
Advertisement
  • भारतीय क्रिकेटर ऋषभ पंत को बचाने वाले बस ड्राइवर ने बताई हादसे की दर्दनाक कहानी।

  • रुड़की जाते समय रास्ते में पंत का हुआ था एक्सीडेंट।

ऋषभ पंत को बचाने वाले बस ड्राइवर ने बताई हादसे की दर्दनाक कहानी, हुए सम्मानित
ऋषभ पंत को बचाने वाले बस ड्राइवर ने बताई हादसे की दर्दनाक कहानी (फोटो: ट्विटर)
Advertisement

टीम इंडिया के विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत शुक्रवार सुबह दिल्ली से अपने गृहनगर रुड़की जाते समय एक भीषण कार दुर्घटना का शिकार हो गए। पंत गुरुवार को दुबई से भारत लौटे और नए साल से पहले अपने परिवार से मिलने जा रहे थे। गाड़ी चलाते समय पंत को नींद आ गई और वह अपनी मर्सिडीज कार से नियंत्रण खो बैठे , जिससे कार डिवाइडर में जा टकराई और दुर्घटनाग्रस्त हो गई।

गनीमत यह रहा कि सुशील कुमार के नाम से जाने वाला एक बस चालक उस स्थान पर मौजूद था जहां दुर्घटना हुई थी और तुरंत क्रिकेटर के बचाव में आया। सुशील सड़क के दूसरी ओर गाड़ी चला रहा था और उसने पंत की दुर्घटनाग्रस्त कार को देखा। इस घटना के बाद सुशील ने बताया है कि दुर्घटना इतना भयानक थी कि पंत की कार दूसरी लेन पर पर चली गई।

सुशील मीडिया आउटलेट्स को बताया कि “मैं हरियाणा रोडवेज, पानीपत डिपो में ड्राइवर हूं। हमारी बस हरिद्वार से सुबह 4:25 बजे निकली है। मैं अपने रास्ते पर था जब मैंने देखा कि एक कार बहुत तेज गति से चल रही थी, असंतुलित हो गई और डिवाइडर में दुर्घटनाग्रस्त हो गई। टक्कर के बाद, कार सड़क के गलत साइड पर जा गिरी – वह जो दिल्ली जाती है। कार सड़क की दूसरी लेन पर फिसल गई थी जिसे देखकर मैंने तुरंत ब्रेक लगा दिए। कार में पहले ही चिंगारी लग चुकी थी इसलिए मैं और कंडक्टर उसे कार से बाहर निकालने के लिए दौड़ पड़े। तब तक आग लग चुकी होती है। फिर, तीन और लोग दौड़ते हुए आए और उसे सुरक्षित स्थान पर ले गए,”

सुशील ने आगे कहा कि शुरू में उन्हें पंत की पहचान के बारे में नहीं पता था क्योंकि वह क्रिकेट मैच नहीं देखते हैं और कंडक्टर ने उन्हें बताया कि पीड़ित भारतीय क्रिकेट टीम का खिलाड़ी है।

बचावकर्ता ने यह भी उल्लेख किया कि पंत को अस्पताल ले जाने में उनकी मदद के लिए कोई भी आगे नहीं आया, वहीं राष्ट्रीय राजमार्ग अधिकारियों को किए गए कॉल का कोई जवाब नहीं आया।

“हम मदद के लिए चिल्लाने लगे लेकिन कोई नहीं आया। मैंने नेशनल हाईवे पर फोन किया, किसी ने जवाब नहीं दिया। फिर मैं पुलिस के पास दौड़ा और कंडक्टर ने एंबुलेंस के लिए फोन किया। हम उससे पूछते रहे कि क्या वह ठीक है। उसे थोड़ा पानी दिया। फिर से इकट्ठा होने के बाद, उसने हमें बताया कि वह ऋषभ पंत है। मैं क्रिकेट को नहीं देखता इसलिए मुझे नहीं पता था कि वह कौन है लेकिन मेरे कंडक्टर ने फिर मुझसे कहा ‘सुशील.. वह एक भारतीय क्रिकेटर है’,’
सुशील ने कहा ने अंत में कहा “पंत घबरा रहा था और लंगड़ा रहा था। उन्होंने [पंत] हमें अपनी मां का नंबर दिया। हमने उसे कॉल किया लेकिन उनका फोन स्विच ऑफ था। 15 मिनट बाद एंबुलेंस आई और हम उसमें सवार हो गए। उसने अपना पैसा भी सड़क पर बिखेर दिया था, जिसे हमने उठाकर उसके हाथों में सौंप दिया। मैंने उससे पूछा कि क्या वह कार में अकेला था। उन्होंने कहा कि कोई नहीं है। उसका चेहरा खून से लथपथ था और उसके कपड़े फटे हुए थे और उसकी पीठ पर खरोंच थी। वह घबरा रहा था और लंगड़ा रहा था।’

बता दें, पंत के बचावकर्ता सुशील और कंडक्टर परमजीत को पानीपत डिपो की तरफ से सम्मानित किया गया है। उत्तराखंड सरकार ने भी ऐलान किया है कि वह भी दोनों लोगों को सम्मानित करेगी। सरकार ने कहा है कि दोनों ने मानवता के लिए सराहनीय काम किया है।

टैग: ,

श्रेणी: ऋषभ पंत

लेखक के बारे में:
टी-20 के दौर में टेस्ट के दीवाने.. विराट कोहली के बड़े प्रशंसक...बाकी स्पोर्ट्स जर्नलिज्म के बारीकियों को समझने समझाने में व्यस्त।अभिनय से संपर्क करने के लिए abhinay.pratap@crickettimes.com पर ईमेल करें।
Advertisement